शुकुनी तुम अभी तक जिन्दा हो ..?

शुकुनी,
तुम अभी तक
जिन्दा हो ?
तुम्हारें पासों ने
जो चाल चली थी ,आज
भी वही चाल
हर कोई चल रहा है ,

वही
छल ,वही कपट
वही ईर्ष्या औऱ
वही सबकुछ तबाह कर
देने की तुम्हारी
ज़िद ,

आख़िर
कितने युगों तक
तुम्हारी ये नफ़रत की
आग इस दुनियां
को जलाती
रहेगी ?

@अजय बजरँगी


Advertisements

9 thoughts on “शुकुनी तुम अभी तक जिन्दा हो ..?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s